Constitution of India

भारतीय संविधान सभा की बैठक 

Constitution of India
संविधान सभा की बैठक



भारतीय संविधान की प्रथम बैठक 9 दिसम्बर 1946 को हुई थी | इस समय के अस्थाई अध्यक्ष - डॉक्टर सचिन्दा नन्द सिन्हा थे । भारतीय संविधान की दूसरी बैठक 11 दिसम्बर 1946 को हुई थी । इस समय स्थाई अध्यक्ष  के रूप   में डॉक्टर राजेंद्र  प्रसाद थे |भारतीय संविधान की तीसरी बैठक 13 दिसम्बर 1946 को हुई थी । इस समय जवाहर लाल नेहरू ने संविधान  सभा का प्रस्ताव प्रस्तुत किया था ।
भारत ने संविधान को 26 नवम्बर 1949 ई. को अंगीकृत कर लिया था। सम्पूर्ण भारतीय संविधान 26 नवम्बर 1950 को लागु किया गया था । भारतीय संविधान के जनक /पिता  डॉक्टर भीमराव अम्बेडकर को कहा जाता है।
जब संविधान लागु हुआ था उस समय इसमें  मूल रूप से 395 अनुच्छेद थे , 22 भाग और 8 अनुसूचियाँ थी तथा वर्तमान में 448 अनुच्छेद , 12 अनुसूचियाँ और 25 भाग है।
भारतीय संविधान के निर्माण में 2 वर्ष 11 माह और 18 दिन का समय लगा।

Bhartiya Samvidhan - अब विस्तार से 

भारतीय संविधान (Constitution of India) में 9 दिसम्बर 1946 को प्रथम बैठक हुई, इस समय के अस्थाई अध्यक्ष के रूप में डॉक्टर सचिंदा नन्द सिन्हा को  चुना गया।  दूसरी बैठक 11 दिसम्बर 1946 हुई थी इस समय स्थाई अध्यक्ष के रूप में डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद को चुना गया था। 13 दिसम्बर 1946 को पंडित जवाहर लाल नेहरू ने संविधान का उदेश्य प्रस्ताव प्रस्तुत कर संविधान निर्माण  का कार्य प्रारम्भ किया।  संविधान सभा में कुल सदस्यों की संख्या 389 थी जिसमे 292 ब्रिटिश प्रांतों के प्रतिनिधि, 4 चीफ कमिश्नर के क्षेत्रों के प्रतिनिधि एवं 93 देशी रियासतों के प्रतिनिधि थे। 
1947 ईस्वी को अगस्त में गठित प्रारूप समिति का अध्यक्ष डॉक्टर भीमराव अम्बेडकर को बनाया गया।  
संविधान सभा की अंतिम बैठक 24 जनवरी 1950 ईस्वी को हुई।  इसी दिन संविधान समिती के द्वारा डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद को राष्ट्रपति बनाया गया।  संविधान को लागु करने के लिए 26 जनवरी का दिन तय किया गया क्यों कि उसी दिन को कांग्रेस ने 1930 में आजादी दिवस के रूप में मनाया था।  


  • 22 जुलाई 1947 ईस्वी को राष्ट्रीय ध्वज अपनाया गया। 
  • 24 जनवरी 1950 को राष्ट्रीय गान एवं राष्ट्रीय गीत को अपनाया गया।  
संविधान सभा की अंतिम बैठक में  24 जनवरी 1950 ईस्वी को डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद भारत के पहले राष्ट्रपति के रूप में चुने गए और इसी दिन संविधान सभा की अंतिम बैठक रही।डॉक्टर भीमराव अम्बेडकर ने संविधान सभा में 4 नवंबर 1948 को संविधान सभा का अंतिम प्रारूप  पेश किया था।

Post a Comment

नया पेज पुराने