राष्ट्रीय उद्यान और अभ्यारण में अंतर - Rashtriy udyan in india

राष्ट्रीय उद्यान और अभ्यारण में अंतर - Rashtriy udyan in india

Abhyaran aur Rashtriya Udyan mein antar

राष्ट्रीय उद्यान और अभ्यारण ये दोनों वन्य जीव सरंक्षण के लिए बनाये जाते है. जैसा की आप जानते है कि हमारे प्रकति में कुछ ऐसे वन्यजीव है जो लुप्त होते जा रहे है अर्थात् समाप्त होते जा रहे है और अगर वन्यजीव समाप्त हो गए तो प्रकति का संतुलन बिगड़ जायेगा. इसलिए वन्यजीव अभ्यारण और राष्ट्रीय उद्यान बनाये जाते है. जिससे कि जो वन्यजीव है उनका सरंक्षण किया जा सके.

Also Read - Madhyapradesh ke Rashtriya Udyan

वन्यजीव अभ्यारण और राष्ट्रीय उद्यान में अंतर

 क्र.
 वन्य अभ्यारण 

 राष्ट्रीय उद्यान
 1.
वन्यजीव अभ्यारण में आप अपने पालतु जानवर सीमित समय के लिए चरा सकते है. 
जैसे -  गाय,बकरी,भैस आदि 


राष्ट्रीय उद्यान में ऐसा करना संभव नहीं है

 2.
वन्यजीव अभ्यारण में आप टूरिज्म के उदेश्य से जा सकते है.


लेकिन राष्ट्रीय उद्यान में ऐसा नहीं कर सकते है. 

 3.
वन्यजीव अभ्यारण में जो सुरक्षा होती है वो राष्ट्रीय उद्यान की अपेक्षा कम होती है.


राष्ट्रीय उद्यान बहुत ही सुरक्षित होते है और इसके नियम भी कड़े होते है.


 4.
वन्यजीव अभ्यारण यदि आपकी जमीन  में पर बनता है तो जमीन आपकी ही रहेगी लेकिन जो वन्यजीव अभ्यारण के नियम है, उनका आपको पालन करना होगा.


वही यदि आपकी जमीन पर राष्ट्रीय उद्यान बनता है तो सरकार पहले ही आपसे जमीन का हिसाब - किताब कर लेगी. 

 5.
वन्य जीव अभ्यारण को नेशनल पार्क में अपग्रेड कर सकते है.


लेकिन राष्ट्रीय उद्यान को वन्यजीव अभ्यारण में डाउन नहीं कर सकते है.

 6.
वन्यजीव अभ्यारण से  आप जलाऊ लकड़ी और फल ले सकते है लेकिन वन्यजीव अभ्यारण के नियमानुसार ही. 
जैसे -  जमीन पर पड़ी हुई लकड़ी,फल ले सकते है.


राष्ट्रीय उद्यान में ऐसा करना संभव नहीं है क्यों कि इसके नियम बहुत ही कड़े होते है.

 7.
वन्यजीव अभ्यारण किसी एक  विशेष जाती के लिए बनाये जा सकते है.

 लेकिन राष्ट्रीय उद्यान को किसी एक विशेष जाती के लिए नहीं बनाया जा सकता है. 

Post a Comment

नया पेज पुराने