नमस्ते दोस्तों आज हम बात करने वाले है C Language In Hindi मतलब C Language क्या है और C Language कैसे सीखे इस पोस्ट में जानेंगे, आज के जमाने में C Language बहुत ही जरूरी हो चुकी है, इसलिए जो भी कंप्यूटर साइंस करना चाहता है उसे C Language सीखना बहुत ही अनिवार्य होता है, अगर आप C Language In Hindi  जानना चाहते हैं तो इस पोस्ट को पढ़ सकते हैं और अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते हैं. 

C Languege एक बोहत ही popular programming language  है। इसको middle level language भी कहा जाता है। २०२०  इस C language की popularity  में कोई भी कमी नहीं आई है। दोस्तों किसी भी language को सिखने से पहले C को सीखना बोहत जरूरी है। आज  के ज़माने में जो भी language आये है वो सभी C को ही Adopt करके बानी है।  तो चलिए C Language के बारेमे detail से जानते है। 

C Language In Hindi और C Language की A To Z जानकारी

C Language In Hindi और C Language की A To Z जानकारी

क्या होती है C Programming Language In Hindi में जानते हैं


C एक general-purpose programming language है जो बेहद लोकप्रिय, simple और flexible है। यह machine-independent, structured programming भाषा है जो विभिन्न अनुप्रयोगों में बड़े पैमाने पर उपयोग की जाती है।

Oracle database, Git, Python interpreter और अधिक जैसे जटिल programs के लिए ऑपरेटिंग सिस्टम (विंडोज और कई अन्य) से सब कुछ लिखने के लिए C मूल भाषा है।

C Language एक सामान्य-उद्देश्य और high-level भाषा है जो मूल रूप से Dennis M. Ritchie द्वारा Bell Labs में UNIX operating system को विकसित करने के लिए बनाया गया था। C को मूल रूप से 1972 में पहली बार DEC PDP-11 computer पर लागू किया गया था।

1978 में, Brian Kernighan और Dennis Ritchie ने C का पहला सार्वजनिक रूप से available विवरण तैयार किया, जिसे अब K & R मानक के रूप में जाना जाता है।

UNIX operating system, C कंपाइलर और अनिवार्य रूप से सभी UNIX application programs C  में लिखे गए हैं। अब विभिन्न कारणों से एक व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली professional भाषा बन गई है।

C Language की Limitations (सीमाएँ)

हालाँकि C एक बहुत शक्तिशाली भाषा है, लेकिन C भाषा में कुछ कमियाँ हैं जो इसे Limitations बनाती हैं।

C language में कोई रन टाइम type checking नहीं है। C भाषा रन समय में किसी भी चर के प्रकार की identify करने में सक्षम नहीं है।

C language object oriented प्रोग्रामिंग (classes, objects, interfaces आदि) का समर्थन नहीं करती है।

C language कोड के क्र Reusability (विरासत) का समर्थन नहीं करती है।

C language में Exceptions रन टाइम पर नियंत्रित नहीं किए जा सकते। अन्य आधुनिक प्रोग्रामिंग भाषाओं की तरह इस कार्य के लिए C में कोई भी keyword उपलब्ध नहीं हैं।

Also Read:

C language का उपयोग क्या है 

C language का उपयोग सभी प्रकार के अनुप्रयोगों को उच्च स्तर से निम्न स्तर तक बनाने के लिए किया जाता है।

ऑपरेटिंग सिस्टम C language द्वारा बनाए जा सकते हैं। अधिकांश ऑपरेटिंग सिस्टम C language in hindi में बनाए गए हैं। ऑपरेटिंग सिस्टम जैसे कि यूनिक्स, विंडो आदि को सी language में ही बनाया गया है।

संकलक को किसी भी नई प्रोग्रामिंग language को संकलित करने की आवश्यकता होती है। C language में भी कंपाइलर बनाए जाते हैं। उदाहरण के लिए, java compiler javac भी C भाषा में बनाया गया है।

C language में कई प्रकार के कोडांतरक भी बनाए गए हैं। असेंबलर बुनियादी निर्देशों को बिट्स में परिवर्तित करते हैं।

पाठ संपादक भी C language द्वारा बनाए जा सकते हैं। जैसे गेदिट आदि।

नेटवर्क ड्राइवर C language द्वारा भी बनाए जा सकते हैं।

डेटाबेस प्रबंधन प्रणाली भी सी भाषा में बनाई गई हैं। जैसे कि Oracle डेटाबेस C languageमें ही लिखा गया है।

पहला C Program Language और इसकी संरचना

C में किसी भी Program को बनाने के लिए 4 चरण हैं। ये चरण एक निश्चित क्रम में हैं और इनमें से प्रत्येक चरण का अपना महत्व है। ( C Language In Hindi )

1.सबसे पहले, आप एक program लिखते हैं। इसे प्रोग्राम डेवलपमेंट लाइफ साइकिल का editing हिस्सा कहा जाता है। यह कार्यक्रम human readable format में है।

2.उसके बाद आप Progam को compile करते हैं। यह विकास जीवन चक्र का दूसरा चरण है। इस भाग की सभी errors को दूर करके, program को binary format में बदल दिया जाता है ताकि कंप्यूटर इसे process कर सके।

3.इसके बाद linking process आती है। इस प्रक्रिया में program आवश्यक libraries के साथ जुड़ा हुआ है। जैसे, आप जानते हैं कि सी के मूल program को भी libraries को शामिल किए बिना निष्पादित (executed) नहीं किया जा सकता है। libraries C progam को executed करने के लिए environment प्रदान करते हैं।

4.इसके बाद executable file का produced किया जाता है। जिसे आप जितनी बार चाहें उतनी बार execute कर सकते हैं। editing process का आउटपुट एक .c source file है। संकलन प्रक्रिया का इनपुट source.c file और आउटपुट .obj फ़ाइल है। compiling pro का इनपुट .obj फ़ाइल और आउटपुट .exe फ़ाइल है।

#include <stdio.h>

int main ()

{

 // printf () displays the string inside quotation

  printf (“Hello, World!”);

  return 0;

 / *

    multi

    line

    comments / *

}

आउटपुट: 

Hello, World

C Progam Language के विभिन्न भाग

  1. Pre-processor
  2. Header file
  3. Function
  4. Variables
  5. Statements & expressions
  6. Comments

Pre-processor ( पूर्व प्रोसेसर )

#include किसी भी C प्रोग्राम का पहला शब्द है। इसे pre-processor के रूप में भी जाना जाता है। pre-processor का कार्य प्रोग्राम के वातावरण को initialize करना है, अर्थात प्रोग्राम को आवश्यक header files के साथ जोड़ना है। इसलिए, जब हम #include कहते हैं, तो compiler को प्रोग्राम को executing करने से पहले प्रोग्राम में stdio.h header files को शामिल करना होगा।

इसलिए, जब हम #include <stdio.h> कहते हैं, तो compiler को stdio.h शामिल करने के लिए सूचित करना है, इसलिए compiler को प्रोग्राम को include करने से पहले प्रोग्राम में stdio.h header File को शामिल करना होगा।

Header file ( शीर्ष लेख फ़ाइल )

पहली line में प्रोग्राम में header file होती है। यह एक standard इनपुट / आउटपुट header file है जो प्रोग्राम में इनपुट और आउटपुट को संभालती है।

Main () function ( मुख्य कार्य )

Main function को int प्रकार के साथ defined किया गया है। यह एक standard है। Main function को हमेश integer value वापस करना पड़ता है। यदि आप प्रोग्राम में मुख्य () फ़ंक्शन से कोई value नहीं लौटाते हैं, तो प्रोग्राम के अंत में रिटर्न 0 स्टेटमेंट लिखें आता है।

Comment ( टिप्पणी )

एक comment आपके कार्यक्रम का पाठ है जिसे compiler ignores करता है। यह text बाकी कथनों की तरह execute नहीं होता है। comments का उपयोग कार्यक्रम में एक बयान या कार्यक्रम को परिभाषित करने के लिए किया जाता है।

C भाषा में comment को परिभाषित करने के लिए सिंगल लाइन comment (//) और मल्टीपल लाइन comment (/*- _//) का उपयोग किया जाता है।

Also Read: Typing Speed kaise badhaye


क्यों आप को C language सीखना चाहिए ?

तो C language in hindi में आप को बताया जा रहा है कि क्यों आप को C सीखना चाहिए। ताहकी आप काही फायदा हो C language को सीखने के बाद।  

  1. सीखने में आसान
  2. Structured भाषा है 
  3. यह कुशल programs का उत्पादन करता है
  4. यह low-level गतिविधियों को संभाल सकता है
  5. इसे विभिन्न Computer platforms पर संकलित किया जा सकता है
  6. जैसा कि हमने पहले अध्ययन किया था, ‘C’ कई प्रोग्रामिंग भाषाओं के लिए एक आधार भाषा है।
  7. अन्य प्रोग्रामिंग भाषाओं का अध्ययन करते समय ‘C’ को मुख्य भाषा के रूप में सीखना एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।
  8. यह समान concepts को साझा करता है जैसे data types, operators, control statements और कई और।
  9. विभिन्न applications में ‘C’ का व्यापक रूप से उपयोग किया जा सकता है।
  10. यह एक सरल भाषा है और तेजी से execution प्रदान करती है।
  11. मौजूदा बाजार में ‘C’ डेवलपर के लिए कई नौकरियां उपलब्ध हैं।

‘C’ एक structured programming language है जिसमें कार्यक्रम को विभिन्न module में विभाजित किया गया है। प्रत्येक module को अलग से लिखा जा सकता है और साथ में यह एक single ‘C’ प्रोग्राम बनाता है। यह structure testing, maintaining और debugging processes के लिए आसान बनाती है।

C Language का उपयोग क्यों करें?

C  का इस्तेमाल शुरू में system development के काम के लिए किया गया था, खासकर प्रोग्राम जो ऑपरेटिंग सिस्टम बनाते थे। C language in hindi में हम आप को बता रहे है की C  को सिस्टम डेवलपमेंट लैंग्वेज के रूप में अपनाया गया था क्योंकि यह code का निर्माण करता है जो assembly language में लिखे गए code की तरह तेजी से चलता है। C के उपयोग के कुछ उदाहरण हम ने आप को निचे दिए है। 
  1. ऑपरेटिंग सिस्टम
  2. Language Compilers
  3. अस्सेम्ब्लेर्स
  4. पाठ संपादकों
  5. स्पूलर्स प्रिंट करें
  6. नेटवर्क ड्राइवर
  7. आधुनिक कार्यक्रम
  8. डेटाबेस
  9. Language Interpreters
  10. Utilities

C Language कैसे सीखे 

दोस्तों बता दें कि language सीखना कोई 1 दिन की बात नहीं है इसके अंदर आपको बहुत सारे दिन यह महीने भी लग सकते हैं हिसाब से और थोड़ा सोच समझ कर इस काम को करना पड़ता है C language कोई छोटे बच्चों के लिए बनी हुई चीज नहीं है।

अगर आपको इसके अंदर कैरियर बनाना है तभी आप इसे सीखना वरना टाइम बिगड़ सकता है C Progam language यह एक आधुनिक कंप्यूटर लैंग्वेज मानी जाती है दोस्तों इसलिए यह थोड़ी मुश्किल भी लगती है।

आपको जो भी लैंग्वेज सीखना चाहते हैं उससे पहले आपको उस लैंग्वेज को समझना होगा दोस्तों और आप सीखने के लिए बहुत सारे प्लेटफार्म में जिसकी आप हेल्प ले सकते हो जैसे के यूट्यूब हैं वेबसाइट है ब्लॉक है जिसे पढ़कर या फिर आप उठे में के जाकर ऑनलाइन कोर्स भी करके इसे सीख सकते हो दोस्तों।

 लेकिन मैं आपको सजेस्ट करूंगा फ्री में अगर आपको सीखना है तो यूट्यूब एक बेस्ट ऑप्शन रहेगा जहां पर आप सर्च करके कोई भी उसको सीख सकते हो फ्री में।

दोस्तों C लैंग्वेज को सीखने का एक बेहतरीन रास्ता में आपको बताओ तो आपको ज्यादा से ज्यादा अपने कंप्यूटर लैपटॉप के अंदर प्रैक्टिस करनी होगी आप इसको याद रखने की कोशिश करोगे तो इतने सारे कोड है कि आप याद नहीं कर पाओगे इसलिए आपको रोज नए-नए कोड लिखने होंगे और प्रैक्टिस कर के प्रोग्राम को बनाना होगा दोस्तों यही एक बेस्ट तरीका language in hindi को सीखने का।

Facts about C Language

तो दोस्तों C language in hindi में हुमा जाने गए कुछ C language बारे में Facts जो आप को जानके बोहत मज़ा आएगा और आप के ज्ञानको बढ़ाये गा।  

  1. C का आविष्कार UNIX नामक एक ऑपरेटिंग सिस्टम को लिखने के लिए किया गया था।
  2. C, B language का उत्तराधिकारी है जिसे 1970 के दशक के प्रारंभ में शुरू किया गया था।
  3. 1988 में अमेरिकी राष्ट्रीय मानक संस्थान (ANSI) द्वारा भाषा को औपचारिक रूप दिया गया था।
  4. UNIX OS पूरी तरह से C में लिखा गया था।
  5. आज C सबसे व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाने वाला और लोकप्रिय सिस्टम प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है।
  6. अधिकांश अत्याधुनिक सॉफ्टवेयर सी का उपयोग करके लागू किए गए हैं।
  7. आज के सबसे लोकप्रिय Linux OS और RDBMS MySQL को C में लिखा गया है।
  8. ‘सी’ को डेनिस रिची ने 1972 में विकसित किया था।
  9. यह एक मजबूत भाषा है।
  10. यह मशीन language के करीब एक कम प्रोग्रामिंग स्तर की भाषा है
  11. यह software विकास के क्षेत्र में व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है।
  12. यह एक प्रक्रिया और संरचना oriented language है।
  13. इसमें विभिन्न ऑपरेटिंग सिस्टम और हार्डवेयर प्लेटफार्मों का पूरा समर्थन है।
  14. ‘C’ में लिखे गए प्रोग्राम को निष्पादित करने के लिए कई कंपाइलर उपलब्ध हैं।
  15. एक कंपाइलर स्रोत फ़ाइल संकलित करता है और एक ऑब्जेक्ट फ़ाइल उत्पन्न करता है।
  16. एक लिंकर सभी ऑब्जेक्ट फ़ाइलों को एक साथ जोड़ता है और एक निष्पादन योग्य File बनाता है।
  17. यह अत्यधिक पोर्टेबल है।

Also Read:

Learn C Language in Hindi Video


c language in hindi book pdf

Conclusion

Tutorial

अगर आप एक स्टूडेंट हो तो सी लैंग्वेज सीखना आपके लिए बहुत ही फायदेमंद हो सकता है क्योंकि इसको सीखने के बाद आपको बहुत सारी Online और ऑफलाइन ऑफिस वर्क या कोई कंपनी के अंदर आसानी से जॉब मिल सकती है बेस्ट करियर ऑप्शन हो सकता है सी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज।

तो दोस्तों अगर आपको हमारी C Language In Hindi और C Language की A To Z जानकारी

यह पोस्ट पसंद आई है तो इसको अपने दोस्तों के साथ FACEBOOK पर SHARE कीजिए और WHATSAPP पर भी SHARE कीजिए और आपको ऐसे ही POST और जानकारी चाहिए तो हमें कमेंट में आप लिख कर बता सकते हैं उसके ऊपर हम आपको अलग से एक पोस्ट लिखकर दे देंगे दोस्तों।

Post a Comment

नया पेज पुराने