Thursday, January 2, 2020

Hindi Varnamala - हिंदी वर्णमाला

हिंदी वर्णमाला

Hindi Varnamala

Hindi Varnamala


भाषा संस्कृत भाषा के 'भाष' शब्द से बना है. भाषा का अर्थ बोलना है भाषा सार्थक इकाई वाक्य है. 

वर्णमाला

वर्ण - भाषा की सबसे छोटी इकाई छर्वान है. इस ध्वनि को वर्ण कहते है.
वर्णमाला -  वर्णों के व्यवस्थित समूह को 'वर्णमाला' कहते है. 
हिंदी में उच्चारण के आधार पर 45 वर्ण (10 स्वर +35 व्यंजन) एवं लेखन के आधार पर 52 वर्ण (13 स्वर +35 व्यंजन + 4 संयुक्त व्यंजन)


स्वर

अ आ इ ई उ ऊ (ऋ) ए ऐ ओ औ (अं) (अ:) { कुल = 10 +3 = 13

व्यंजन

क वर्ग -  क ख ग घ ड.
च वर्ग - च छ ज झ ञ
ट वर्ग - ट ठ ड़ ढ ण  { द्विगुण व्यंजन - ड़ ढ }
त वर्ग - त थ द ध न
प वर्ग - प फ ब भ म 
अंतस्थ - य र ल व 
उष्म - श ष स ह 
संयुक्त व्यंजन - क्ष त्र ज्ञ श्र  { कुल = 33 + (2) = 35}
इस वर्णमाला को देवनागरी वर्णमाला या नागरी वर्णमाला भी कहते है. 
 (क+ष = क्ष) (त+र = त्र) (ज+अ = ज्ञ) (श+र = श्र)
उच्चारण के आधार पर वर्णमाला को दो भागों में बांटा गया है.

  1. स्वर
  2. व्यंजन 
स्वर की परिभाषा -   स्वतंत्र रूप से बोले जाने वाले वर्ण 'स्वर' कहलाते है. इनका उच्चारण बिना किसी दुसरे वर्ण की सहयता से होता है.
ह्स्व स्वर (मूल स्वर) - अ, इ , उ , ऋ {संख्या = 4}
दीर्घ स्वर -  आ, ई, ऊ, ए, ऐ, ओ , औ { संख्या = 7}
आगत स्वर - आ प्लुत स्वर - हे राम ! ओम 


स्वरों का वर्गीकरण

मात्रा / उच्चारण - काल के आधार पर  

  1. ह्स्व स्वर -  जिनके उच्चारण में कम से कम (एक मात्रा का समय) लगता है वो ह्स्व स्वर कहलाते है. हस्व स्वर चार है -  अ इ उ ऋ {इनको मूल स्वर भी कहते है}
  2. दीर्घ स्वर - जिनके उच्चारण में ह्स्व स्वर से अधिक समय लगता है वो दीर्घ स्वर कहलाते है. इनकी संख्या 7 है - आ, ई , ऊ , ए, ऐ ओ, औ
  3. प्लुत स्वर - जिन स्वरों के उच्चारण में दीर्घ स्वरों से भी अधिक समय लगता है वो प्लुत स्वर कहलाते है जैसे - हे राम, ओम

जीभ के प्रयोग के आधार पर 

  1. अग्न स्वर  -  जिन स्वरों के उच्चारण में  जीभ का अग्न भाग काम करता है वो अग्न स्वर कहलाते है. जैसे - इ , ई , ए , ऐ
  2. मध्य स्वर -  जीभ का मध्य भाग इसमें काम करता है. जैसे - अ  {हिंदी में 'अ' स्वर केन्द्रीय स्वर है}
  3. पश्च स्वर - उच्चारण में जीभ का पश्च भाग काम करता है. जैसे - आ , उ , ऊ, ओ , औ, अं अ:

मुह के खुलने के आधार पर 

  1. विव्रत (Open) - जिन स्वरों के उच्चारण में मुहं पूरा खुलता है जैसे - आ
  2. अर्ध - विव्रत (Half Open) -  जिन स्वरों के उच्चारण में मुहं आधा खुलता है जैसे - अ , ए, औ, अं 
  3. संवृत (Close) - जिन स्वरों के उच्चारण में मुख सबसे कम खुलता है जैसे  - इ , ई , उ , ऊ
  4. अर्ध संवृत - जिन स्वरों के उच्चारण में मुख-द्वार आधा बंद रहता है जैसे ए , ओ

ओठों की स्थिति के आधार पर 

  1. अव्रतमुखी - जिन स्वरों के उच्चारण में ओंठ व्र्तामुखी या गोलाकार नहीं होते है जैसे - अ , आ, इ , ई ए , ऐ 
  2. व्रतामुखी - जिन स्वरों के उच्चारण में ओंठ वृत्तमुखी या गोलाकार होते है जैसे - उ, ऊ ,ओ, औ, अं 

हवा के नाक व मुहं से निकलने के आधार पर

  1. निरनु नासिक (मौखिक स्वर) - जिन स्वरों के उच्चारण में हवा केवल मुहं से निकलती है जैसे - अ, आ, इ आदि)
  2. अनुनासिक स्वर - जिन स्वरों के उच्चारण में हवा मुहं के साथ - साथ नाक से भी निकलती है जैसे - अं, अ:, इ आदि)

घोषत्व के आधार पर

घोष का अर्थ है स्वरतंत्रियों में स्वास का कम्पन. स्वरतंत्री में जब कंपन होता तो 'संघोष' ध्वनियाँ होती है.
सभी स्वर 'संघोष' ध्वनियाँ होती है. 

1 comment:
Write comment