Madhya pradesh ki pramukh nadiya 

मध्यप्रदेश की नदियाँ

Rivers of mp



मध्य प्रदेश राज्य में विभिन्न दिशाओं में नर्मदा नदी, चम्बल नदी, सोन नदी, ताप्ती नदी, सिंध नदी, पार्वती नदी जैसी नदियाँ बहती है, जिनका निम्न प्रकार है |



1. नर्मदा नदी (Narmada nadi)

  • नर्मदा नदी मध्यप्रदेश की सबसे बड़ी और भारत की पांचवी सबसे बड़ी नदी है
  • उद्गम - यह नदी मध्यप्रदेश के अनुपपुर जिले में विंध्याचल पर्वत की मैकाल श्रेणी की सबसे ऊँची चोटी अमरकंटक से निकलती है |
  • समापन - यह मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र और गुजरात में बहती हुई भड़ौच के निकट खंभात में गिर जाती है
  • कुल लम्बाई - 1312 किलोमीटर है लेकिन मध्यप्रदेश में इसकी कुल लम्बाई 1,077 किलोमीटर है |
  • जल प्रवाह - इस नदी का जल प्रवाह 93,180 किलोमीटर है | नर्मदा के वेसिन का हिस्सा मध्यप्रदेश में 89 .9% महाराष्ट्र में 2.7% और 8.5% गुजरात में है
  • परियोजना - इस नदी पर सरदार सरोवर परियोजना चल रही है |

2. चम्बल नदी (Chambal nadi)

  • चम्बल, वेतवा, केन और टोंस नदियाँ मध्यप्रदेश से निकलकर इटावा के पास यमुना नदी में मिल जाती है।
  • सहायक नदी - इसकी  सहायक नदियाँ - काली सिंध, पार्वती, बनास है
  • उद्गम - चम्बल नदी का उद्गम मध्यप्रदेश के महू जिले की जनापाव पहाड़ी से हुआ है |
  • लम्बाई - 965 किलोमीटर
  • उपनाम - धर्मावती (चर्मावती)
  • सीमा निर्धारण - यह नदी मध्यप्रदेश और राजस्थान के बीच सीमा निर्धारण करती है |
  • जल पप्रपात - चुलिया जल प्रपात जो की 18 मीटर ऊँचा है | सिंचाई के लिए यह नदी अत्यंत उपयोगी है इसलिए इस नदी पर गाँधी सागर, राणा प्रताप सागर और कोटा बांध बनाये गए है इन योजनाओं से मध्यप्रदेश को जल विधुत एवं सिचाई सुविधा प्राप्त होती है |

3. सोन नदी (Son nadi)

  • सोन नदी का उद्गम अनुपपुर जिले में स्थित मैकाल श्रेणी की अमरकंटक शीर्ष के निकट से हुआ है |
  • लम्बाई - सोन नदी की लम्बाई 780 किलोमीटर है |
  • जलप्रवाह - सोन नदी का जलप्रवाह क्षेत्रफल 17,900 वर्ग किलोमीटर है |
  • उपनाम - सोन नदी को स्वर्ण नदी के नाम से भी जानते है |
  • यह नदी मध्यप्रदेश के उत्तर पूर्व में बहती हुई बिहार में रामनगर के पास गंगा नदी में मिल जाती है |
  • 1000 वर्ष पूर्व यह नदी पटना के नीचे मिलती थी लेकिन अत्यधिक कटाव  क्षमता के कारण अब यह पटना से पहले रामनगर में ही मिल जाती है | सोन नदी मध्यप्रदेश में शहडोल सीधी उमरिया और उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिलों में बहती है  इसकी सहायक नदी जोहिला नदी है |

4.तापती नदी (Tapti nadi)

  • उद्गम - ताप्ती नदी प्रदेश के बैतूल जिले में सतपुरा सिवनी पर स्थित मुलताई नगर के समीप 762 मीटर की ऊंचाई से निकलती है यह नदी नर्मदा की भाती पूर्व से पश्चिम की ओर भ्रंश घाटी में बहती है।
  •  यह नदी गुजरात में सूरत के निकट खंभात की खाड़ी में गिरती है
  • लंबाई - इस की कुल लंबाई 724 किलोमीटर है
  • जल अपवाह क्षमता - इसकी बेसिन में जल अपवाह क्षमता 86,340 लाख घन मीटर है।
  • सहायक नदी - यह प्रदेश में बैतूल और खंडवा जिलों में बहती है इसकी सहायक नदी पुरणा नदी है।

5.बेतवा नदी (Betwa nadi)
  •   बेतवा नदी का प्राचीन नाम वेत्रवती था |
  • उद्गम - इसका उद्गम विंध्यांचल श्रेणी में रायसेन जिले के कुमरा गांव से होता है यह नदी उत्तर प्रदेश में हमीरपुर के निकट यमुना में मिल जाती है।
  • लंबाई - इस की कुल लंबाई 380 किलोमीटर है।
  • उत्तर पूर्व दिशा में बहने वाली नदी मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश की सीमा बनाती है।

Also Read - Madhya Pradesh General Knowledge   


6.क्षिप्रा नदी (Kshipra nadi)
  • उद्गम - शिप्रा नदी काकरी बरणी पहाड़ी से निकलती है।
  • लंबाई - इसकी कुल लंबाई 195 किलोमीटर है।
  • सहायक नदी - यह चंबल की सहायक नदी है
  • मध्यप्रदेश में यह नदी उज्जैन रतलाम मंदसौर जिले से बहती है इसकी प्रमुख सहायक नदी खान नदी है।

7.कुँवर नदी (Kunwar nadi)

  • यह नदी शिवपुरी पठार से निकलती है इसकी कुल लंबाई 180 किलोमीटर है और यह चंबल की सहायक नदी है
  • उद्गम - यह नदी देवास जिले के बागली गांव के निकट विंध्यांचल पर्वत से निकलती है ।

8.काली सिंध नदी (Kali sindh nadi)

  • लम्बाई - यह नदी 150 किलोमीटर लंबी है और राजगढ़ और शाजापुर जिलों में बहती हुई श्रेणी में चंबल नदी में मिल जाती है।

9.तवा नदी (Tawa nadi)

  •  उद्गम - तवा नदी महादेव पर्वत की काली भीत पहाड़ियों से निकलती है यह होसंगाबाद के निकट नर्मदा नदी में मिल जाती है।
  • सहायक नदी - इसकी प्रमुख सहायक नदी मालिनी सप्तवा और देनवा है।
  • बांध - मध्य प्रदेश का सबसे लंबा बांध तवा नदी पर बनाया गया है


10.वेनगंगा  (Wainganga nadi)

  • उद्गम - बेनगंगा सिवनी जिले के परसवारा पठार से निकलती है |
  • समापन - सिवनी और छिंदवाड़ा जिलों के बीच प्रवाहित होती है यह नदी महाराष्ट्र में वर्धा नदी से मिलकर समाप्त हो जाती है।
  • सहायक नदी - इसकी प्रमुख सहायक नदी कानन, पेंच और बावनथड़ी है।

11.केन नदी (Ken nadi)

  • उद्गम - यह नदी विंध्यांचल पर्वत से निकलती है और उत्तर की ओर प्रवाहित होती है कटनी और बाँदा जिलों से गुजर कर यह नदी यमुना नदी में मिल जाती है।

12.टौंस नदी (Touns nadi)

  • उद्गम - इस नदी का उद्गम सतना जिले की कैमूर पहाड़ी से होता है |
  • समापन - यह सिरसा (उत्तर प्रदेश) में गंगा नदी में मिलकर समाप्त हो जाती है।

13.कुँवारी नदी (Kuwari nadi)

  • उद्गम - यह नदी शिवपुरी पठार से निकलकर भिंड के लहार तहसील में सिंध नदी में मिल जाती है यह चंबल नदी के समानांतर बहती रहती है।

14.पार्वती नदी (Parwati nadi)

  •  उद्गम - इस नदी का उद्गम सीहोर जिले में विंध्यनगर से होता है।
  • यह गुनाह तथा चचौरा तहसीलों में 37 किलोमीटर तक बहती है और चंबल नदी में मिल जाती है।

15.सिंध नदी (Sindh nadi)

  •  उद्गम - सिंध नदी गुना जिले में स्थित सिरोज के निकट से निकलती है यह शिवपुरी गुना दतिया तथा भिंड  जिले में बहती हुई इटावा के पास चंबल नदी में मिल जाती है।

16. गार नदी (Gar nadi) 

  • उद्गम - यह नदी सिवनी जिले के लखना स्थान से निकलकर कोयले की संकरी घाटी में बहती हुई यह उत्तर की ओर नर्मदा नदी  में बाएं किनारे जाकर मिल जाती है।

17. छोटी तवा नदी (Choti tawa nadi)

 यह नदी बैतुल जिले में आवना व सुक्ता नदियों से मिलकर बनती है। यह खानदेश बुरहानपुर होते हुए खंडवा के उत्तर में आवना से मिल जाती है।


18. शंकर नदी (Shankar nadi)

  •   उद्गम -इसका उद्गम छिंदवाड़ा जिले के अमरवाड़ा से 18 किलोमीटर उत्तर हुआ है। यह नर्मदा नदी की सहायक नदी है
  • यह सतपुड़ा महाखड्ड कोयला क्षेत्र को पार करके नर्मदा नदी में मिल जाती है।

19.वर्धा नदी (Wrdha nadi)

  •  उद्गम - यह नदी वर्धन शिखर बैतूल जिला से निकलती है |
  • समापन - यह महाराष्ट्र में गहरी चट्टानी क्षेत्र से बहती हुई वैन गंगा नदी में जाकर समाप्त हो जाती है।

20. धसान  नदी (Dhasan nadi)

  • उद्गम - यह नदी सागर जिले से निकलती है इसके पश्चात यह उत्तर की ओर बहती हुई यमुना नदी में मिल जाती है।

Post a Comment

नया पेज पुराने