Sunday, March 17, 2019

Bharat ka itihas hindi -भारत का इतिहास

Lucent GK भारत का इतिहास

hindustan-ka-itihas
History of India


Lucent GK - 
Bharat ka itihas hindi



उत्तर में हिमालय से लेकर दक्षिण में समुन्द्र तक फैला  उपमहाद्वीप भारत वर्ष के नाम  जाता है | जिसे महा काव्य तथा  पुराणों  में भारत वर्ष अर्थात  भारत का देश कहा जाता है |  यहाँ के निवासियों को भारती अर्थात  भारत की संतान  कहा जाता है |  यूनानियों ने   भारत को इंडिया तथा मध्यकालीन मुस्लिम इतिहास कारो  ने  हिन्द अथवा हिंदुस्तान के नाम से सम्बोधित किया है 

                        भारतीय इतिहास को अध्यन की सुविधा के लिए तीन भागो में बाटा  गया है | 

१- प्राचीन भारत 
२. मध्यकालीन भारत 
३. आधुनिक भारत 

तो चलिए दोस्तों अब हम इन सबको हम विस्तार से जानते है | 

१, प्राचीन भारत - प्राचीन भारत के इतिहास की जानकारी मुख्यतः चार स्रोतों से प्राप्त होती है | 

१. धर्म ग्रन्थ 
२. ऐतिहासिक ग्रन्थ 
३. विदेशियों का विवरण 
४. पुरातत्व सम्बन्धी साक्ष्य

धर्म ग्रन्थ एवं ऐतिहासिक ग्रन्थ से मिलने वाली महत्वपूर्ण जानकारी


भारत का सबसे प्राचीन धर्मग्रन्थ  वेद है | जिसके संकलन करता महर्षि कृष्ण द्वैपायन वेदव्यास  को  माना जाता है | वेद चार प्रकार से है - १. ऋगवेद  २. यजुर्वेद ३. सामवेद ४. अर्थव वेद

इन चारो वेदो को सहिंता कहा जाता है |

 १. ऋगवेद

 ऋचाओं के क्रमबद्ध  ज्ञान को ऋगवेद कहा जाता है | इसमें   10 मंडल  और 1028 सूक्तियाँ तथा 10,462 ऋचाएँ है | इस वेद के ऋचाओं के पढ़ने वाले को होत्  कहते है | इस वेद से आर्य की राजनितिक प्रणाली एवं इतिहास के बारे में जानकारी मिलती है |

विश्वामित्र द्वारा रचित ऋग्वेद के तीसरे  मंडल में  सूर्य देवता सावित्री को समर्पित प्रसिद्ध  गायत्री मंत्र है इसके ९ वे मंडल में  देवता सोम  का उल्लेख है | 


ऋग्वेद में  आठवें मंडल की हस्तलिखित ऋचाओं को खिल कहा जाता है |


वर्णों का विभाजन ऋग्वेद के 10 में मंडल में मिलता है | जिसमे से १. ब्राम्हण २. क्षत्रिय ३. वैश्य ४. शूद्र  है |


ऋग्वेद में इंद्र के लिए 250 तथा  आग देवता  लिए 200 ऋचाओं की रचना की   गई है |

वामनावतार के  पगो का आख्यान का प्राचीनतम स्रोत्र ऋग्वेद से मिलता है |

------------------------------------------------------------------------------------------------


२. यजुर्वेद  


सस्वर पाठ के लिए मंत्रो तथा बलि के समय अनुपालन  नियमो का संकलन यजुर्वेद में  मिलता है |

यजुर्वेद में यज्ञों के नियमो एवं विधि विधानों का संकलन मिलता है |
यजुर्वेद एक ऐसा वेद है जिसमे गद्य एवं पद्य दोनों है |

३. सामवेद 


'साम' का शाब्दिक अर्थ गान से है | इस वेद  मुख्यतः यज्ञों के अवसर पर गाये जाने वाले ऋचाओं या मंत्रो का संकलन मिलता है | सामवेद के पाठ करता को Urdrat कहते है |


सामवेद को भारतीय  संगीत का जनक कहा जाता है | 


नोट - यजुर्वेद तथा  सामवेद में किसी भी विशिष्ट ऐतिहासिक घटना का वर्णन नहीं मिलता है | 


--------------------------------------------------------------------------------------------------


४. अर्थव वेद 


अर्थव वेद रचियता अर्थवा है | इस वेद में कुल 731 मंत्र तथा लगभग 6000  पद्य  है |

अर्थव वेद कन्याओ के जन्म की निंदा करता है |
अर्थव वेद में अंधविश्वासों का विवरण मिलता है |

इसमें मानव  जीवन के सभी पक्षों  जैसे -  गृह निर्माण , कृषि की उन्नति , व्यापारिक मार्गो का गाहन या खोज , रोग निवारण , समन्वय , विवाह तथा प्रणय गीतों , राजभक्ति राजा का चुनाव , बहुत से वनस्पतियो एवं औषिधियो , शाप वशीकरण , प्रायश्चित , मातृ भूमि  माहात्म्य आदि का विवरण मिलता है | कुछ मंत्रो में जादू - टोने का भी वर्णन  मिलता है |


इसमें सभा एवं समिति को प्रजापति की दो पुत्रिया कहा गया है |


नोट - सबसे प्राचीन वेद ऋग्वेद एवं सबसे बाद का वेद अर्थव वेद है | 


भारतीय ऐतिहासिक कथाओ का सबसे अच्छा क्रमबद्ध विवरण पुराणों में मिलता है | पुराण के रचियता लोमहर्ष  अथवा इनके पुत्र उग्रश्रवा को माना जाता है |


नोट - पुराणों में मत्स्य पुराण सबसे प्राचीन एवं प्रामाणिक है | 


अधिकतर पुराण सरल संस्कृत श्लोक में लिखे गए है | स्त्रियाँ  तथा शूद्र जीने  वेद पढ़ने की अनुमति नहीं थी वे भी पुराण सुन सकते थे | पुराणों का पाठ  पुजारी मंदिरो में किया करते थे |

दोस्तों मै आशा करता  हु की आपने भारत के इतिहास में ऋग्वेद , यजुर्वेद ,सामवेद , अर्थव वेद को आपने समझ लिया होगा तो चलिए अब जान लेते है की इनसे प्रश्न कैसे बनते है |
--------------------------------------------------------------------------------------------------


1.भारत को महाकाव्य तथा पुराणों में किस नाम से जाना जाता है ?

उत्तर - भारत वर्ष

2. यूनानियों ने भारत को किस नाम से  पुकारा है ?

उत्तर - इंडिया 

3. मध्यकालीन मुस्लिम इतिहासकारो के अनुसार  भारत को किस नाम  जाना जाता है ?

उत्तर - हिंद अथवा हिंदुस्तान 

4. भारतीय इतिहास  अध्यन की दृस्टि से कितने भागों  बटा गया है ?

उत्तर - तीन भागो में  ( प्राचीन भारत , मध्यकालीन भारत , आधुनिक भारत )

5. भारतीय इतिहास  जानकारी किन स्रोतों  से मिलती है ?

उत्तर - चार स्रोतों  से (  धर्म  ग्रन्थ , ऐतिहासिक ग्रन्थ , विदेशियों का विवरण , पुरातत्व संबंधी साक्ष्य )

6.भारत का सबसे  ग्रन्थ कौन सा है ?

उत्तर - धर्म ग्रन्थ वेद 

7. धर्म ग्रन्थ वेद  संकलन करता कौन है ?

उत्तर - महर्षि कृष्ण द्वैपायन वेद्ब्यास 

8. वेद कितने है

उत्तर - चार ( ऋग्वेद , यजुर्वेद ,  सामवेद, अर्थव वेद ) 

 9. चार वेदों को  जाता है ?

उत्तर - संहिता 

10.ऋचाओं के क्रम बद्ध  ज्ञान को क्या कहते है ?

उत्तर - ऋग्वेद 

11.  ऋग्वेद में कितने मंडल है ?

उत्तर - 10 मंडल 

12. ऋग्वेद में कितनी सूक्तियाँ है ?

उत्तर- 1028 

13. ऋग्वेद  में कितनी ऋचाये है ?

 उत्तर - 10462 

14. ऋग्वेद  के मंत्रो को पढ़ने वाले ऋषि को क्या कहते है ?

उत्तर - होत्

15. किस वेद से आर्य की राजनितिक प्रणाली एवं इतिहास की जानकारी मिलती है ?

उत्तर - ऋग्वेद 

16. ऋग्वेद के रचियता कौन है ?

उत्तर - विश्वामित्र 

17.  ऋग्वेद के तीसरे मंडल में किस देवता का उल्लेख किया गया है ?

उत्तर - गायत्री मंत्र 

18. ऋग्वेद के 9 वे मंडल में किस देवता का उल्लेख किया गया है ?

उत्तर - सोम देवता 

19. ऋग्वेद के 8 वे  मंडल में हस्तलिखित ऋचाओं को क्या कहा जाता  है ?

उत्तर - खिल 

18. वर्णो का विभाजन ऋग्वेद के किस मंडल में किया गया है ?

उत्तर - 10 वें मण्डल में 

19.ईसा मसीह के जन्म तिथी से आरंभ हुआ सन् क्या कहलाता है ?

उत्तर - ईसवी सन् या ई.

20. ई. को लैटिन भाषा में क्या लिखा जाता है ?

उत्तर - A.D ( Anno Domini ) जिसका शाब्दिक अर्थ है - In the Year of Lord (jesus Chirst )

21. ऋग्वेद में इंन्द्र के लिए कितने ऋचाआंे की रचना की गई है ?
उत्तर - 250

22. ऋग्वेद में अग्नि के लिए कितने ऋचाओं की रचना की गई है ?
उत्तर - 200

23. किस वेद में यज्ञों के नियमों तथा विधि विधानों का संकलन मिलता है ?
उत्तर - यजुर्वेद में

24. कौन सा वेद है जिसमें गद्य एवं पद्य दोनो है ? 
 उत्तर - यजुर्वेद

25. साम का शाब्दिक अर्थ क्या है ?
उत्तर - गान 

26. सामवेद के पाठकर्ता को किस नाम से जाना जाता है ?
उत्तर - उद्रातृ

27. किस वेद को भारतीय संगीत का जनक कहा जाता है ?
उत्तर - सामवेद 

28. किस वेद में ऐतिहासिक घटना का वर्णन नहीं मिलता है ?
उत्तर - यजुर्वेद तथा सामवेद 

29.अर्थव वेद के रचियता कौन है ?
उत्तर - अर्थवा 

30. किस वेद में 731 मंत्र है ?
उत्तर - अर्थव वेद 

31. किस वेद में लगभग 6000 पद्य है ?
 उत्तर - अर्थव वेद 

32. कौन सा वेद कन्याओं के जन्म की निन्दा करता है ?
उत्तर - अर्थव वेद 

33. किस वेद में अंधविश्वास का विवरण का मिलता है ?
उत्तर - अर्थव वेद 

34. अर्थव वेद का प्रतिनिधि सूक्त किसे माना जाता है ?
उत्तर - पृथ्वीसूक्त को

35. किस वेद में जादू टोने का वर्णन मिलता है ?
उत्तर - अर्थव वेद

36. किस वेद में परीक्षित को कुरूओं का राजा गया है ?
उत्तर - अर्थव वेद

37. वर्णो का विभाजन ऋग्वेद के किस मंडल में किया गया है ?
उत्तर - 10 वें मण्डल में 

38. ईसा मसीह के जन्म तिथी से आरंभ हुआ सन् क्या कहलाता है ?
उत्तर - ईसवी सन् या ई. 

39. ऋग्वेद में इंन्द्र के लिए कितने ऋचाआंे की रचना की गई है ?
उत्तर - 250

40. ऋग्वेद में अग्नि के लिए कितने ऋचाओं की रचना की गई है ?
उत्तर - 200

41. किस वेद में यज्ञों के नियमों तथा विधि विधानों का संकलन मिलता है ?
उत्तर - यजुर्वेद में 

42. कौन सा वेद है जिसमें गद्य एवं पद्य दोनो है ? 
 उत्तर - यजुर्वेद

43. साम का शाब्दिक अर्थ क्या है ?
उत्तर - गान 

44. सामवेद के पाठकर्ता को किस नाम से जाना जाता है ?
उत्तर - उद्रातृ

45. किस वेद को भारतीय संगीत का जनक कहा जाता है ?
उत्तर - सामवेद

46. किस वेद में ऐतिहासिक घटना का वर्णन मिलता है ?
उत्तर - यजुर्वेद तथा सामवेद

47. अर्थव वेद के रचियता कौन है ?
उत्तर - अर्थवा 

48. किस वेद में 731 मंत्र है ?
उत्तर - अर्थव वेद 

49. किस वेद में लगभग 6000 पद्य है ?
 उत्तर - अर्थव वेद

50. कौन सा वेद कन्याओं के जन्म की निन्दा करता है ?
उत्तर - अर्थव वेद

51. किस वेद में अंधविश्वास का विवरण का मिलता है ?
उत्तर - अर्थव वेद 

52. अर्थव वेद का प्रतिनिधि सूक्त किसे माना जाता है ?
उत्तर - पृथ्वीसूक्त को

53. किस वेद में जादू टोने का वर्णन मिलता है ?
उत्तर - अर्थव वेद

54. किस वेद में परीक्षित को कुरूओं राजा कहा गया है ? 
उत्तर - अर्थव वेद 

55. कुरू देश की समृध्दि का अच्छा चित्रण किस वेद में मिलता है ?
उत्तर - अर्थव वेद

56. किस वेद में सभा एवं समिती को प्रजापति की दो पुत्रियां कहा गया है ?
उत्तर - अर्थव वेद

57. सबसे प्राचीन वेद कौन सा है ?
उत्तर - ऋग्वेद

58. सबसे बाद का वेद कौन सा है ?
उत्तर - अर्थव वेद


No comments:
Write comment